मुनिया की दुनिया

इसकी असली रचयिता है मुनिया की माया, कोशिश केवल उसे शब्द देने वाली हमारी छाया, मुनिया की दुनिया, हिंदी कहानी, प्रेरक कहानियाँ, मुनिया...

अधिक पढ़ें

मुनिया की दुनिया

इसकी असली रचयिता है मुनिया की माया, कोशिश केवल उसे शब्द देने वाली हमारी छाया, मुनिया की दुनिया, हिंदी कहानी, प्रेरक कहानियाँ, मुनिया...

अधिक पढ़ें

मुनिया की दुनिया

इसकी असली रचयिता है मुनिया की माया, कोशिश केवल उसे शब्द देने वाली हमारी छाया, मुनिया की दुनिया, हिंदी कहानी, प्रेरक कहानियाँ, मुनिया...

अधिक पढ़ें

ठटकर ठ की बातें

‘ठ’-ठठेरे का, ठ देवनागरी वर्णमाला में टवर्ग का व्यंजन है‘ट’ वर्ग का यह व्यंजन भाषा विज्ञान की दृष्टि से मूर्धन्य, स्पर्श, अघोष और...

अधिक पढ़ें

मुनिया की दुनिया

इसकी असली रचयिता है मुनिया की माया, कोशिश केवल उसे शब्द देने वाली हमारी छाया, मुनिया की दुनिया, हिंदी कहानी, प्रेरक कहानियाँ, मुनिया...

अधिक पढ़ें

सारे खेल मन के ...

सारे खेल मन के, यदि आप चिंतित और डर की वजह से कुछ सोच नहीं पा रहे हैं तो उससे खुद को मुक्त कर दीजिए, हमें कई बार खुद के बारे में ही...

अधिक पढ़ें

मुनिया की दुनिया

इसकी असली रचयिता है मुनिया की माया, कोशिश केवल उसे शब्द देने वाली हमारी छाया, मुनिया की दुनिया, हिंदी कहानी, प्रेरक कहानियाँ, मुनिया...

अधिक पढ़ें

‘ट’ का ट्रेंड

'ट' देवनागरी वर्णमाला में टवर्ग का प्रथम व्यंजन है, भाषा विज्ञान ने ‘ट’ वर्ग के इस प्रथम व्यंजन को मूर्धन्य, स्पर्श, अघोष तथा अल्पप्राण...

अधिक पढ़ें

ऑल इज़ वैल

‘इतना सन्नाटा क्यों है भाई?’, हममें से हर कोई इस सन्नाटे से डरता है, सन्नाटा अकेलेपन को दिखाता है, सन्नाटा मौत की भयानकता को ओढ़े हुए...

अधिक पढ़ें

मुनिया की दुनिया

इसकी असली रचयिता है मुनिया की माया, कोशिश केवल उसे शब्द देने वाली हमारी छाया, मुनिया की दुनिया, हिंदी कहानी, प्रेरक कहानियाँ, मुनिया...

अधिक पढ़ें

‘उनकी मर्ज़ी’ के मर्ज़ का इलाज

क्या लोग आपको पसंद नहीं करते? कोई आपको ठुकराता है या प्यार करता है, उसे आप कभी भी व्यक्तिगत तौर पर न लें, कोई आपको चाहता है या नहीं...

अधिक पढ़ें

चुनिए अपना यथार्थ

परिस्थितियों का हवाला बुजदिल लोग दिया करते हैं वरना कभी भी किसी को भी आदर्श परिस्थिति नहीं मिलती, परिस्थितियाँ किसी की कभी नहीं बदली...

अधिक पढ़ें

मुनिया की दुनिया

इसकी असली रचयिता है मुनिया की माया, कोशिश केवल उसे शब्द देने वाली हमारी छाया, मुनिया की दुनिया, हिंदी कहानी, प्रेरक कहानियाँ, मुनिया...

अधिक पढ़ें

‘झ’ की झिलमिल करती झालर

झ देवनागरी वर्णमाला में चवर्ग का चौथा व्यंजन है, झ झंडा का, झ से शुरू होने वाले शब्द, झ से बनने वाले शब्दों की रचनात्मक व्याख्या,...

अधिक पढ़ें

एक पॉज़ का बटन ले आइए

इस पूरी दुनिया में यदि खुद का अस्तित्व तलाशने जाएँगे तो देखेंगे एक परमाणु के एक दशांश इतनी भी हमारी बिसात नहीं लेकिन हमें लगता है...

अधिक पढ़ें

मुनिया की दुनिया

इसकी असली रचयिता है मुनिया की माया, कोशिश केवल उसे शब्द देने वाली हमारी छाया, मुनिया की दुनिया, हिंदी कहानी, प्रेरक कहानियाँ, मुनिया...

अधिक पढ़ें

ये छोटा-सा नज़राना...

महँगे गिफ़्ट देना और लंच या डिनर पर मिलना मतलब बिज़नेस मीटिंग करना, कॉरपोरेट जगत् का चलन है, दो या दो से अधिक लोग जब मिलते हैं तो ऊर्जा...

अधिक पढ़ें

मुनिया की दुनिया

इसकी असली रचयिता है मुनिया की माया, कोशिश केवल उसे शब्द देने वाली हमारी छाया, मुनिया की दुनिया, हिंदी कहानी, प्रेरक कहानियाँ, मुनिया...

अधिक पढ़ें

‘ज’ का जलवा

ज देवनागरी वर्णमाला में चवर्ग का तीसरा व्यंजन है, ज से शुरू होने वाले शब्द,ज से बनने वाले शब्दों की रचनात्मक व्याख्या, मुख्य शब्द...

अधिक पढ़ें

मुनिया की दुनिया

इसकी असली रचयिता है मुनिया की माया, कोशिश केवल उसे शब्द देने वाली हमारी छाया, मुनिया की दुनिया, हिंदी कहानी, प्रेरक कहानियाँ, मुनिया...

अधिक पढ़ें

पूरे समाज के रूप में हम पूरी तरह असफल

वे शक्तिरूपा हैं तो उन्हें डर कैसा? माँ दुर्गा की उपासना का पर्व शारदीय नवरात्रि 7 अक्टूबर से शुरू हुआ है, एक ओर इसी समाज में कन्याओं...

अधिक पढ़ें

मुनिया की दुनिया

इसकी असली रचयिता है मुनिया की माया, कोशिश केवल उसे शब्द देने वाली हमारी छाया, मुनिया की दुनिया, हिंदी कहानी, प्रेरक कहानियाँ, मुनिया...

अधिक पढ़ें

नज़रें मिलाइए, चुराइए नहीं

ईमानदारी क्या है? एक छोटा-सा सूत्र है, ईमानदारी लेकिन यह आपको समाज में बड़ी प्रतिष्ठा दिलाता है, ईमानदारी एकमात्र शर्त, बेईमानी या...

अधिक पढ़ें

छड़ी बाजे छमाछम

छ देवनागरी वर्णमाला में चवर्ग का दूसरा व्यंजन है, छ, छत का, छ छज्जे का, आज की पीढ़ी को छज्जा पता भी होगा या नहीं, क्या पता! चवर्ग के...

अधिक पढ़ें

सपनों की उड़ान भरने के पंख

सपनों की उड़ान भरने के लिए पंख होने ज़रूरी हैं और दोनों पंखों में संतुलन भी होना चाहिए, है न? अपने रिश्तों, भागीदारी और बातचीत में संतुलन...

अधिक पढ़ें

‘मत चूको चौहान!’

क्या आपने कभी संकल्प शक्ति को महसूस किया है? आप किसी और से जीवन के लक्ष्यों के बारे में पूछने क्यों जाते हैं? अपने आप से पूछिए न कि...

अधिक पढ़ें

लैट गो....

पति पत्नी का रिश्ता बहुत ही महत्वपूर्ण रिश्ता होता है, पति पत्नी में झगड़े होना एक आम बात है, एक साधारण समस्या है, परंतु कभी-कभी यह...

अधिक पढ़ें

महिलाओं पर सॉफ़्ट-सा दिखता कठोर पिंक वार

पिंक टैक्स महिलाओं द्वारा चुकाई जाने वाली एक इनविज़िबल कॉस्ट है जो उन्हें उन उत्पादों के लिये चुकानी पड़ती है जो विशेष तौर पर उनके लिये...

अधिक पढ़ें

‘च’ का चरमोत्कर्ष

च देवनागरी वर्णमाला में च वर्ग का प्रथम व्यंजन है,च से शुरू होने वाले शब्द, च से बनने वाले शब्दों की रचनात्मक व्याख्या, मुख्य शब्द...

अधिक पढ़ें

गैट अप एंड गो, बढ़े चलो…

‘काम-काम, काम-काम, मम्मी को कितना काम’…ऑफ़िस जाना मतलब ‘अप-टु-डेट’ बने रहना और साथ में घर को भी चकाचक रखना, ‘अप-टु-द मार्क’ रखना, कभी...

अधिक पढ़ें