टैग : जो जैसा हो रहा है उसे वैसा होने दीजिए

बाँधकर मत रखिए, बहने दीजिए

हम उन भावनाओं को छिपातें हैं जिन्हें हम स्वीकार नहीं करना चाहते हैं, हम यह स्वीकार नहीं करना चाहते हैं कि हम विफलता या आलोचना से डरते...

अधिक पढ़ें