टैग : गुम हुईं मानवीय संवेदनाएँ

संवेदना का अकाल

क्या हमारी संवेदनाएँ ख़त्म हो गयी है? कोविड ने मरने का जितना भय दिया, उतना मरने का भय छीन भी लिया है, एक-दूसरे के प्रति संवेदशीलता...

अधिक पढ़ें